आगामी 1 अप्रैल से दुग्ध उत्पादको को खरीद मूल्य में 3.25 रूपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की जाएगी।

Social Share


आगामी 1 अप्रैल से दुग्ध उत्पादको को खरीद मूल्य में 3.25 रूपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की जाएगी।
अजमेर डेयरी के संचालक मण्डल की 153 वीं बैठक दिनांक 14 फरवरी, 2024 को श्री रामचन्द्र चौधरी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।
बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये उसमें प्रमुख निर्णय यह रहा की आगामी गर्मी
को मद्देनजर रखते हुये दुग्ध के संकलन में कमी ना हो इस हेतु आगामी 1 अप्रैल 2024 होली के पश्चात् दुग्ध उत्पादको के खरीद मूल्य में 3.25 रूपये प्रति लीटर बढ़ोतरी की जाएगी। इस सम्बन्ध में आवश्यक आदेश जारी कर दिये गये है।
इस वृद्धि से पशुपालको को प्रतिदिन 13 लाख रूपये का एवं मासिक लगभग 4 करोड़ रूपये का अधिक भुगतान संघ द्वारा किया जायेगा।
यहाँ यह उल्लेखनीय है की जून माह में दूध के खरीद मूल्य में और वृद्धि की जायेगी। जिससे की दूध उत्पादक अन्य प्राईवेट डेयरी के बहकावे में नहीं आवे साथ ही राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री दुग्ध उत्पादक सम्बल योजना के 5 रूपये अगस्त से जनवरी के 6 माह के आदेश सभी जिला संघो में कल प्राप्त हो गये है। आगामी 10 से 15 दिनों में पहले 3 माह का भुगतान किया जाएगा शेष तीन माह का भुगतान आगामी मार्च माह में हर हाल में कर दिया जायेगा। संचालक मडल ने राज्य सरकार से यह अनुरोध किया की मिड-डे-मील में दूध पाउडर सप्लाई व्यवस्था शीघ्र प्रारम्भ की जाये जिससे प्रदेश में दूध पाउडर का Buffer Stock का उपयोग हो सके एवं पशुपालको को उचित दाम मिल सके।
संचालक मण्डल ने आर.सी.डी.एफ से यह भी अनुरोध किया है कि पशु आहार के भावों में कटौती की जावे क्योंकि पशु आहार में उपयोग में लिये जाने वाले कच्चे माल के भावो में गत महिनों में काफी कमी हुई है। संचालक मण्डल में यह भी निर्णय हुआ की आर.सी.डी.एफ से अनुरोध किया जाये की SSG ज्वार का बीज हरे चारे के लिए तत्काल उपलब्ध करवाया जावे। जिससे की पशुपालक समय पर बुवाई कर सके। इस सम्बन्ध में आरसी डी.एफ ने 2 दिन पूर्व 300 क्विंटल ज्वार का बीज अजमेर डेयरी में पहुंचा दिया है एवं इसकी बिक्री कल से प्रारम्भ हो चुकी है। अतः पशुपालको से अनुरोध है की ज्वार के बीज हेतु “पहले आओ, पहले पाओ” के अन्तर्गत शीघ्रता शीघ्र बीज खरीद कर लाभ उठावे।संचालक मण्डल की बैठक में जिले के 100 प्रगतिशील पशुपालको को हैदराबाद में आयोजित होने वाले 4 से 6 मार्च को IDA Conference में भाग लेने की अनुमति प्रदान की गई। संचालक मण्डल द्वारा सभी पशुपालको से अनुरोध किया है की संघ में वर्तमान में घी का स्टॉक 115 करोड़ एवं पाउडर का स्टॉक 40 करोड़ रखा हुआ है क्यूंकि मंदी का दौर एवं प्रदेश में भारी मात्रा में नकली घी का प्रचलन बढ़ा हुआ है अतः राज्य सरकार से अनुरोध करते है की शुद्ध के लिये युद्ध के अन्तर्गत छापा मार कार्यवाही को तत्काल लागू करे। साथ ही संघ आर.सी.डी.एफ से अनुरोध करते हूँ की घी के भावो में पुनः विचार करने का प्रयास करे जिससे की घी ज्यादा मात्रा में उपभोग में आ सके। संचालक मंडल की बैठक में यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया की दूध एवं दूध के उत्पाद को विक्रय मूल्य पर आगामी समय में कोई वृद्धि नहीं की जाएगी।
संघ में सोलर प्लांट, Cheese Plant, एवं Butter Chipplate Plant के कार्य को 1 वर्ष के लिये स्थगित किया जाता है जिससे की संघ के प्लांट के लिये गए ऋण का भुगतान समय पर हो जाने पर उपरोक्त योजनाएँ लागू की जाएगी। संचालक मण्डल की बैठक में सरस सुरक्षा कवच जो आर.सी.डी.एफ की योजना है जिससे भारत सरकार एवं राज्य सरकार का सहयोग भी शामिल है इसमें 25,000 पशुपालको के सम्मलित करने का निर्णय लिया गया। NDDB द्वारा Staff Structure के सम्बन्ध में भेजी गई रिपोर्ट का अनुमोदन करते हुये आर.सी. डी.एफ एवं राज्य सरकार से अनुरोध करते है की भर्ती प्रक्रिया को सर्वोत्तम प्राथमिकता दी जावे। क्योंकि जिला संघों में केवल 17 प्रतिशत ही स्थाई कर्मचारी शेष रहे गये है। संघ में लिये गये अंतिम निर्णय के अनुसार संघ में उपलब्ध कबाड़ की निलामी 31 मार्च पूर्व सम्पन्न की जावे। जिससे संघ की आर्थिक आय में वृद्धि हो सके संचालक मण्डल द्वारा हर्ष व्यक्त किया गया की पुराने प्लांट में भी IGL की PNG गैस शुरू हो गई है जिससे पूरा प्लांट IGL की PNG गैस के इस्तेमाल से आर्थिक बचत होगी। इस व्यवस्था से संघ में प्रतिमाह 3 करोड़ रूपये की IGL गैस की खपत होगी एवं संघ को 22 लाख रूपये प्रतिमाह की बचत होगी।
इसके साथ ही अध्यक्ष महोदय ने अवगत कराया की पशुपालको की भावना के अनुरूप पूर्व की राज्य सरकार द्वारा लागु की गई कामधेनू बीमा योजना एवं पशुओं के लिये चल-चिकित्सा यूनिट योजनाओं को जारी रखने के लिये प्रदेश के समस्त दुग्ध उत्पादको ने राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *